होम Strategy Politics कोरोना की तीसरी लहर टालने के लिए कड़क नियमो का पालन करना...

कोरोना की तीसरी लहर टालने के लिए कड़क नियमो का पालन करना होगा – सीएम उद्धव ठाकरे

कोरोना की तीसरी लहर टालने के लिए कड़क नियमो का पालन करना होगा – सीएम उद्धव ठाकरे

सीएम और व्यापारी संघटनो के साथ क्या हुई चर्चा उस पर सीएम ने सरकार की रखी भूमिका

होटल , रेस्टोरेंट के टाइमिंग को बढ़ाने के लिए ठप्पे ठप्पे में निर्बंध में राहत दी जाएगी जिसकी पूरी जानकारी लेने के बाद

व्यापारी सांघाटनो के प्रतिनिधिमंडल से की मुलाकात

इंडियन होटल एंड रेस्टोरेंट असोसिएशन , आहार , होटल ओनर्स असोसिएशन और एनआरआई ईन सनघटनो के प्रतिनिधिमंडल के साथ हुई सीएम उद्धव ठाकरे की बैठक।

सीएम ने ईस दौरान कहा की हर चीज पुराने समय की तरह चले इसे लेकर सरकार ने कई महत्वपूर्ण कदम उठाया है जिसके आधार पर समय के अनुसार नियमो में ढिलाई दी गई है।

आऊटडोर जगहों पर बंधन कम किया गया है लेकिन इनडोअर में अभी भी सावधानी बरतने की जरूरत है।

दूसरे लहर में ऑक्सीजन की ज्यादा जरूरत पड़ी ऐसे में अगर तीसरी लहर आई तो ऑक्सीजन की मांग बढ़ सकती है।

नियमो में ढील देते वक्त रोग से पीड़ितों की संख्या की जानकारी लेनी होगी।

इस दौरान टास्क फोर्स के डॉ जोशी ने होटल व्यापारियों से कहा कि कर्मचारियों के टीकाकरण करे , ऐसी का इस्तिमाल नही करते हुए खुली हवा का इंतिजाम करे और सफाई का ध्यान रखें।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Must Read

देवेंद्र फड़णवीस का बंगला वाशिंग मशीन का काम कर रही है – बाला साहेब थोरात

कांग्रेस नेता बाला साहेब थोरात ने रश्मि शुक्ला और मोहित कंबोज की देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात पर कहा की देवेंद्र फडणवीस का...

दही हंडी को लेकर सरकार अपनी योजना बताए – सुनील प्रभु

शिवसेना विधायक सुनील प्रभु ने शिंदे सरकार को घेरने का प्रयास किया उंन्होने दही हंडी के आयोजन को लेकर सरकार की घोषणा...

पूरी दुनिया बीजेपी जितना चाहती है – नाना पटोले

कांग्रेस नेता और महाराष्ट्र प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने विधानसभा मानसून सत्र के दूसरे दिन बीजेपी पर निशाना साधते हुए कई एहम...

खड्ढे के कारण नेशनल पार्क ब्रिज पर एक्सीडेंट 2 की मौत

खड्ढे के कारण नेशनल पार्क ब्रिज पर एक्सीडेंट 2 की मौत वेस्टर्न एक्सप्रेस हाइवे नेशनल पार्क ब्रिज पर खड्ढे...

बचा पोश एक जटिल प्रथा जो सैकड़ो सालों से अफगानिस्तान में चली आ रही है

बचा पोश यह शब्द सुनकर आप को लग रहा होगा की यह क्या है ?बचापोश एक ऐसे जटिल प्रथा है जो सेकड़ो...