होम Strategy Politics फोन टैपिंग मामले में तत्कालीन गृह मंत्री देवेंद्र फडणवीस की भूमिका की...

फोन टैपिंग मामले में तत्कालीन गृह मंत्री देवेंद्र फडणवीस की भूमिका की हो जांच – नाना पटोले

फोन टैपिंग मामले में तत्कालीन गृह मंत्री देवेंद्र फडणवीस की भूमिका की हो जांच 

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले की मांग 

 राज्य सरकार में वरिष्ठों के आशीर्वाद के बिना फोन टैपिंग असंभव 

 मुंबई, दिनांक : फरवरी 27, 2022

 वरिष्ठ पुलिस अधिकारी रश्मि शुक्ला के खिलाफ फोन टैपिंग मामले में मामला दर्ज किया गया है लेकिन मामले की जड़ तक जाना जरूरी है।  यह मांग प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने की है। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट अपने एक फैसले में कहा है कि   फोन टैपिंग के लिए गृह सचिव की अनुमति अनिवार्य है।  ऐसे में साफ है कि सरकार के किसी वरिष्ठ सदस्य के आशीर्वाद के बिना रश्मि शुक्ला द्वारा फोन टैपिंग  की हिम्मत करना नामुमकिन है।  पटोले ने मांग की है कि इस मामले में तत्कालीन गृह मंत्री के रूप में काम करने वाले देवेंद्र फडणवीस की भूमिका की भी जांच की जानी चाहिए। उन्होंने आरोप लगाते हुए कि कहा कि तत्कालीन गृह मंत्री भी अवैध फोन टैपिंग के मामले में शामिल थे।

 इस संबंध में बोलते हुए नाना पटोले ने कहा कि राज्य में देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी की सरकार के दौरान 2017-18 में मेरे अलावा शिवसेना, एनसीपी समेत कई मंत्रियों, नेताओं, आईएएस, आईपीएस अधिकारियों के फोन अवैध रूप से टैप किए गए थे।   ड्रग्स का धंधा करने वालों को पकड़ने की आड़ में  मेरा नाम अमजद खान बता कर  फोन की टैपिंग की गई थी  और निजामुद्दीन बाबू शेख  के नाम पर बच्चू कडू के फोन को टैप किया गया।   मैंने विधानसभा में फोन टैपिंग का मुद्दा भी उठाया था और उच्च स्तरीय जांच की मांग की थी।  गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल ने कहा है कि जांच में रश्मि शुक्ला के दोषी पाए जाने पर मामला दर्ज किया गया है।

 पटोले ने कहा कि आतंकवादी गतिविधियों, मादक पदार्थों की तस्करी जैसे गंभीर मामलों की जांच के लिए विशेष अनुमति के साथ फोन टैपिंग की जाती है लेकिन ड्रग्स  मामले हमारा  कोई लेना-देना नहीं है। इसके बावजूद मेरे फोन को टैप किया गया ।  फोन टैप करके किसी पर नजर रखना अपराध है और यह व्यक्तिगत स्वतंत्रता का उल्लंघन है।  खुलासा हुआ है कि केंद्र की मोदी सरकार पेगासस के जरिए मंत्रियों, राजनीतिक नेताओं, न्यायपालिका और पत्रकारों की भी इसी तरह जासूसी करती रही है।  इस  पूरे प्रकरण  की जांच की जानी चाहिए ।

पटोले ने कहा कि  हालांकि रश्मि शुक्ला के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है, लेकिन उन्होंने फोन टैपिंग का रिकॉर्ड किसको दिया। फोन टैपिंग का मूल उद्देश्य क्या था।  रश्मि शुक्ला को फोन टैपिंग करने का आदेश किसने दिया।  ऐसे कई सवालों के जवाब तलाशने बेहद   जरूरी हैं ।  पटोले ने राज्य सरकार से फोन टैपिंग मामले की जांच में तेजी लाने और मामले के असली मास्टरमाइंड का पता लगा कर उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Must Read

अमेरिका में जॉब और वीजा का झांसा देकर लोगों से लाखों रुपए ठगते थे

मुंबई साइबर पुलिस ने 4 विदेशी नागरिकों को महाराष्ट्र के पुणे से किया गिरफ्तार अमेरिका में जॉब और वीजा...

उद्धव गुट के नेता कृष्णा हेगड़े शिंदे गुट में हुए शामिल

उद्धव गुट के नेता कृष्णा हेगड़े शामिल हुए शिंदे गुट में .. उद्धव सेना को लगा एक और झटका...

लिव-इन-रिलेशनशिप को लेकर हाऊसिंग सोसायट नियम बनाए , राज्यपाल से की विनती – आत्मसम्मान मंच

श्रद्धा वालकर की दुखद घटना को लेकर "आत्मसम्मान मंच" की ओर से महाराष्ट्र के माननीय राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी जी को मिलकर...

राहुल गांधी आज करेंगें गुजरात मे चुनावी प्रचार

राहुल गांधी आज करेंगे गुजरात मे प्रचार कांग्रेस नेता राहुल गांधी आज से गुजरता में होने वाले विधानसभा चुनाव...

शिवसेना ने सामना के जरिये बीजेपी और शिंदे सरकार से किया सवाल शिवराय को लेकर ब्यान देने वालो पर क्या है उनकी भूमिका

शिवसेना ने अपने मुख्यपत्र सामना के जरिए बीजेपी - शिंदे सरकार पर निशाना साधते हुए कई सवाल उठाया और इस पर जोर...